Posts

Showing posts from September, 2020

पिट्युटरी या पीयूष ग्रंथि: संरचना एवं हॉर्मोन

Image
 पिट्युटरी या पीयूष ग्रंथि को शरीर के ग्रंथि तंत्र का हैड मास्टर कहा जाता है, पर ऐसा क्यों है? चलिए जानते हैं कि पिट्युटरी के विषय में सब कुछ:  पिट्युटरी ग्रंथि क्या होती है?  हमारे दिमाग़ के नीचे एक मटर के आकार की ग्रंथि होती है जिसका वजन ०.५ ग्राम होता है इसको ही पीयूष ग्रंथि कहते हैं।  ये माना जाता है कि इसका निर्माण हाइपोथैलेमस से ही होता है।  इसके दो भाग होते हैं:  अग्र भाग पश्च भाग ( ये भाग हाइपोथैलेमस से जुड़ा होता है) ग्रंथि की शरीर में स्थिति:  पीयूष ग्रंथि हमारी खोपड़ी में दिमाग़ के सबसे निचले हिस्से में पाई जाती है।  खोपड़ी की हड्डी में इसके लिए एक गड्ढे नुमा स्थान होता है जिसको “ पिट्युटरी फोसा (pituitary fossa) ”कहते हैं।  चारों तरफ़ से जिस हड्डी से घिरी रहती है उसको “ सेला टर्सिका(cella turcica) ” कहते हैं।  ग्रंथि एक झिल्ली से ढकी हुई रहती है जिसको “ डायफ्रामा सेल्ली (diaphragma cellae) ” कहते हैं।  पिट्युटरी ग्रंथि के कार्य:  यह शरीर में होने वाली लगभग सभी गतिविधियों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रित करता है जिनमें प्रमुख हैं:  शरीर की वृद्धि एवं विकास ब्लड प्

ग्रंथियाँ क्या होती हैं? ग्रंथियाँ कितने प्रकार की होती हैं? Endocrine Glands in Hindi

Image
आपने कभी सुना होगा कि शरीर में ग्रंथियाँ या glands होती हैं, जो अलग अलग काम करती हैं, परंतु क्या आपको पता है ग्रंथि क्या होती है? ग्रंथि का शरीर में क्या काम है? यदि कोई ग्रंथि ठीक से काम ना करें तो क्या होगा? इन सब सवालों के उत्तर मिलेंगे इस लेख में।  ग्रंथि क्या होती है?  शरीर के वो भाग जो कोई ऐसे जैविक रसायन उत्पन्न करते हैं, जो शरीर की नित प्रतिदिन की प्रक्रियाओं को सुचारू रूप से चलाने में मदद करते हैं, इन भागों या शरीर के अंगों को ही ग्रंथि कहते हैं। शरीर में मुख्यतः दो प्रकार की ग्रंथियाँ पाई जाती हैं: बर्हिस्रावी ग्रंथियाँ   अंत:स्रावी ग्रंथियाँ  बर्हिस्रावी ग्रंथियाँ:  ये वो ग्रंथियाँ हैं जिनमें नलिकाएँ पाई जाती हैं, जिनके माध्यम से अपने जैविक रसायनों अपने बाहर निकालकर छोड़ देती हैं, जो एपीथिलियम पर निकलते हैं,  इनके उदाहरण निम्नवत हैं:  पसीने को बाहर निकालने वाली ग्रंथियाँ  लार ग्रंथि स्तन ग्रंथियाँ जिनमें बच्चे के लिए दूध बनता है और स्रावित होता है अश्रु ग्रंथियाँ  प्रोस्टेट ग्रंथि अंत:स्रावी ग्रंथियाँ:  इन ग्रंथियों में कोई नलिका नहीं होती हैं ये अपने रसायन सीधे रक्त में छोड