एप्लास्टिक अनीमिया: कारण, लक्षण, इलाज

 दोस्तों आज जिस विषय पर हम बात करेंगे वो एक ऐसा विषय है जिसके विषय में हमने थोड़ा कम सुना होता है पर सुना होता है। वो है एप्लास्टिक एनीमिया। तो चलिए फिर शुरू करते हैं और जानते हैं कि एप्लास्टिक एनीमिया क्या होता है? इसके क्या क्या कारण हैं? और इसका इलाज क्या है?

एप्लास्टिक अनीमिया: कारण, लक्षण, इलाज

एप्लास्टिक एनीमिया: 

एप्लास्टिक एनीमिया एक ऐसा अनीमिया है जिसमें कि शरीर के अंदर रक्त कोशिकाओं का निर्माण होना बंद हो जाता है या इतना कम हो जाता है जो शरीर की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए काफ़ी नहीं होता है। 
सबसे ज़रूरी सवाल ये है कि ऐसा होता क्यों है? इस सवाल का जवाब जानने के लिए हमें ये जानना पड़ेगा कि रक्त कोशिकाओं का निर्माण कहाँ होता है और किन परिस्थितियों में ये कम हो जाता है। 

अस्थि मज्जा: 

रक्त कोशिकाओं का निर्माण हमारे शरीर की अस्थि-मज्जा में होता है। 
अस्थि-मज्जा शरीर की बड़ी बड़ी हड्डियों के अंदर मिलता है, ये बच्चों में ज़्यादा होता है और बड़ों में केवल कुछ जगहों पर ही क्रियाशील होता है बाक़ी जगहों पर अस्थि मज्जा की जगह वसा एकत्र हो जाती है।
अस्थि मज्जा में रक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है एवं वहीं से वो रक्त में मिल जाती हैं और अपने अपने काम करने लगती हैं। 

एप्लास्टिक अनीमिया के कारण: 

अब हम समझ चुके हैं कि रक्त कोशिकाओं का निर्माण अस्थि मज्जा में होता है तो जो भी कारण अस्थि मज्जा के कार्य में बाधा डालेगी वो एप्लास्टिक अनीमिया का कारण बनेगी। चलिए एक एक करके जानते हैं: 
  1. रेडियोएक्टिव पदार्थों से संक्रमण 
  2. रेडियोएक्टिव किरणों से संक्रमण जैसे कि बार बार X-ray होना 
  3. कैंसर में होने वाली रेडियो थेरेपी एवं कीमो-थेरेपी
  4. अनुवांशिक कारण
  5. कैमिकल जैसे बैंजीन इत्यादि से लम्बे समय तक संक्रमण 
  6. दवाइयाँ
  • क्लोरम्फेनिकॉल(chloramphenicol)
  • Phenytoin
  • Quinine
  • Phenylbutazone
कुछ बीमारियों में कुछ समय के लिए एप्लास्टिक अनीमिया हो जाता है जैसे: 
  • Parvovirus infection
  • हेपेटाइटिस
  • स्व-प्रतिरक्षित( Autoimmune) बीमारियाँ जिनमें शरीर की प्रतिरोधक क्षमता अपने ही शरीर की कोशिकाओं को मारने लग जाती हैं। 

लक्षण: 

जैसा कि हम जानते हैं कि अस्थि मज्जा काम करना या तो बंद कर देती है या कम कर देती है, तो इसमें हमें सभी तरह की कोशिकाओं की कमी के लक्षण मिलते हैं, चलिए एक एक करके जानते हैं: 

लाल रक्त कोशिकाओं की कमी के लक्षण: 

  1. काम करने की क्षमताओं कमी
  2. थकान
  3. दिल की धड़कन बढ़ जाना
  4. दिल की धड़कन महसूस होना
  5. साँस लेने में तकलीफ़ होना 

श्वेत रक्त कोशिकाओं की कमी के लक्षण: 

  1. मरीज़ को बार बार संक्रमण लग जाना
  2. कई बार मरीज़ को उन जीवाणुओं से भी बीमारी हो जाती है जो सामान्य जीवन में सह-जीवी की तरह शरीर में रहते हैं जैसे कैंडिडा नामक फ़ंगस 

प्लेटलेट्स की कमी के लक्षण: 

  1. प्लेटलेट्स का काम रक्त का थक्का जमाना होता है, यदि इनकी कमी हो जाती है तो मरीज़ के शरीर से अपने आप रक्त बहना शुरू हो सकता है या यदि कहीं चोट लगती है तो रक्तस्राव रुकता नहीं है। 
  2. नक्सीर फूटना
  3. मासिक धर्म में अत्यधिक रक्तस्राव होना
  4. खाँसी के साथ खून आना

जाँच:

Complete blood count
अस्थि-मज्जा की बायोप्सी( BONE MARROW BIOPSY) 
X-Ray chest (फेफड़ों के इंफ़ेक्शन का पता करने के लिए)
CT Scan (शरीर की हड्डियों की जाँच के लिए) 
पेट का अल्ट्रासाउंड (किडनी व लिवर की स्थिति जानने के लिए)
लिवर टेस्ट: हेपेटाइटिस का पता लगाने के लिए 
विटामिन B12 एवं फोलिक एसिड के स्तर (विटामिन की कमी से एनीमिया का पता लगाना)
एंटीबॉडी टेस्ट (autoimmune disease को पता करने के लिए)

इलाज:

इलाज के लिए निम्नलिखित योजनाओं को शामिल किया जाता है: 
  1. कारण का इलाज करना
  2. शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कम करने वाली दवाइयाँ देना 
  3. अस्थि-मज्जा का प्रत्यारोपण
यदि कारण का पता लगा पाना संभव हैं और उस कारण का इलाज संभव है तो उस कारण का इलाज किया जाता है परंतु यदि कारण नहीं पता चल सकता है या कारक बीमारी का इलाज नहीं संभव है तो फिर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कम करने के लिए दवाइयाँ दी जाती हैं जिनमें शामिल हैं: 
  1. Cyclosporins
  2. Antitymocyte globulin(ATG) 
  3. Corticosteroids
  4. एंटीबायोटिक ( इंफ़ेक्शन से बचाने के लिए)
  5. हॉर्मोन( यदि मासिक धर्म में बहुत ज़्यादा रक्तस्राव हो रहा है)
  6. Erythropoietin ( ये लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि करने में मदद करता है) 
  7. रक्त चढ़ाना

इलाज का असर हो रहा है या नहीं इसका पता लगाने के लिए इलाज शुरू होने के ६ महीने बाद फिर से अस्थि मज्जा की बायोप्सी की जाती है। 

अस्थि-मज्जा प्रत्यारोपण: 

अस्थि-मज्जा प्रत्यारोपण एप्लास्टिक अनीमिया का सबसे कारगर इलाज है। यदि प्रत्यारोपण कम उम्र में करवा दिया जाए तो मरीज़ की ज़िंदगी कई वर्ष तक बढ़ सकती है और वो एक अच्छी ज़िंदगी गुज़ार सकता है। 

अस्थि-मज्जा कौन दे सकता है?

कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र 18-44 वर्ष के बीच है वो बोन मैरो दान कर सकता है परंतु उसको निम्नलिखित बीमारियाँ नहीं होनी चाहिए: 
  1. एड्स
  2. रिमेटॉयड आर्थराइटिस 
  3. अस्थमा यदि रोज़ दवा लेनी पड़े
  4. स्व-प्रतिरक्षी बीमारियाँ ( Auto-immune diseases) 
  5. कोई रक्तस्रावी बीमारी
  6. भूतकाल में कोई दिमाग़ी चोट लगी हो
  7. कैंसर
  8. लम्बे समय से चला आ रहा गर्दन का दर्द, कमर का दर्द जो आपकी दिनचर्या को प्रभावित कर रहा हो
  9. दिल की बीमारियाँ 

भोजन: 

भोजन में उन चीज़ों को शामिल करना चाहिए जो हीमोग्लोबिन को बढ़ाएँ एवं लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करने वाले अवयवों को शरीर में बढ़ाएँ। 

क्या खा सकते हैं: 

आयरन के स्रोत: 

  1. पालक
  2. दालें
  3. अखरोट
  4. काजू
  5. गुड़
  6. लोहे की कढ़ाई में पकी सब्ज़ियाँ 
  7. टोफ़ू

विटामिन B12 के स्रोत: 

  1. मीट 
  2. मछली
  3. अंडा
  4. दूध

फोलिक एसिड के स्रोत: 

  1. हरी पत्तेदार सब्ज़ियाँ 
  2. अंडा
  3. केला
  4. संतरा

विटामिन C के स्रोत: 

  1. कीवी
  2. टमाटर
  3. होभी
  4. नींबू
  5. पालक
कुछ रोचक तथ्य: 
  1. मैडम मैरी क्यूरी  जो कि एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक थी, उनकी मृत्यु एप्लास्टिक अनीमिया से हुई थी। 
  2. रक्तस्रावी एनीमिया में रक्त बहुत ज़्यादा बह जाने के कारण अनीमिया होता है और एप्लास्टिक अनीमिया में रक्तस्राव होने का ख़तरा ज़्यादा होता है। कुछ लोग दोनों को एक ही समझ लेते हैं परंतु ये दोनों अलग अलग बीमारियाँ हैं। 
  3. एप्लास्टिक अनीमिया से मरने वाले प्रसिद्ध व्यक्तियों की सूची: 
    • ELEANOR ROOSEWELL
    • DONNY SCHMIT
    • TED DeVITA
    • DEMETRIO STRATOS
    • JOHN DILL
ये भी पढ़ें: 

Comments

Popular posts from this blog

पिट्युटरी या पीयूष ग्रंथि: संरचना एवं हॉर्मोन

एनस्थिसिया क्या होता है? एनस्थिसिया कितने प्रकार का होता है? एनस्थिसिया कैसे देते हैं? एपीड्यूरल एनस्थिसिया क्या होता है? Anaesthesia in hindi

म्यूकरमाइकोसिस क्या है? ब्लैक फ़ंगस क्या होता है?। कोरोना के मरीज़ों में ब्लैक फ़ंगस क्यों हो रहा है?। Black fungus in hindi

वजन कम करने के लिए डाइट प्लान कैसे बनाएँ? केवल डाइट से वजन कैसे कम करें।वजन कम करने के लिए क्या खाएँ और क्या ना खाएँ

सरकार क्यों चाहती है कि आप वॉल्व वाला N95 मास्क ना पहनें? WHO ने N95 मास्क को लेकर क्या चेतावनी जारी की है?