Posts

Showing posts from July, 2020

एनस्थिसिया क्या होता है? एनस्थिसिया कितने प्रकार का होता है? एनस्थिसिया कैसे देते हैं? एपीड्यूरल एनस्थिसिया क्या होता है? Anaesthesia in hindi

Image
क्या कभी आपका या आपके किसी जानने वाले का ऑपरेशन हुआ है? ऑपरेशन के दौरान दर्द महसूस हुआ? नहीं ना? ये कमाल है एनस्थिसिया का। आइए जानते हैं कि एनस्थिसिया क्या होता है? एनस्थिसिया कितने प्रकार का होता है? एनस्थिसिया कैसे देते हैं और एनस्थिसिया के साइड इफ़ेक्ट क्या होते हैं एनस्थिसिया क्या होता है? एनस्थिसिया चिकित्सा विज्ञान की एक ऐसी विधा है जिसमें दवाओं के द्वारा व्यक्ति को दर्द मुक्त किया जा सकता है और उसको बेहोश किया जा सकता है। एनस्थिसिया को हिन्दी में संज्ञा हरण या निश्चेतना विज्ञान कहते हैं। एनस्थिसिया के पाँच मूलभूत तत्व होते हैं  दर्द निवारण  संज्ञा हरण मांसपेशियों की शिथिलता ऑपरेशन के समय की याददाश्त जाना ऑपरेशन की चिन्ता से मुक्ति पूर्ण संज्ञाहरण (GENERAL ANAESTHESIA)   इस तकनीक में मरीज़ को पूर्ण रूप से बेहोश किया जाता है, मरीज़ को साँस लेने की मशीन पर रखा जाता है और ऑपरेशन के बाद मरीज़ को होश में लाया जाता है।  पूर्ण संज्ञाहरण में मरीज़ को ऑपरेशन के दौरान की कोई भी याददाश्त नहीं होती है।  मरीज़ का शरीर पूरी तरह से शिथिल होता है कोई भी अंग नहीं हिलता है  मरीज़ को कृत्रिम तरीक़े

वजन कम करने के लिए डाइट प्लान कैसे बनाएँ? केवल डाइट से वजन कैसे कम करें।वजन कम करने के लिए क्या खाएँ और क्या ना खाएँ

Image
मोटापा कैसे कम करें: मोटापा आज के समय में एक बहुत बड़ी समस्या बनकर उभरा है। इसका कारण जीवनशैली में हुए परिवर्तन और डायबिटीज़ जैसी बीमारियों का बढ़ना है। हम हर रोज़ नये नये तरीक़े ढूँढते हैं और पूरे मनोयोग से कोशिश करते हैं कि इस समस्या से निजात पा लें पर अन्तिम परिणाम शून्य ही रहता है।    मोटापा क्या होता है ये हमने पिछले लेख में समझा था इस लेख में मैं आपके लिए कुछ ऐसा लेकर आया हूँ जिससे कि आपको वजन कम करने में बहुत मदद मिलेगी और आप अपना वजन बहुत कम कर पाएँगे। चलो फिर शुरु करते हैं और जानते हैं कि केवल डाइट से   वजन कैसे कम कर सकते हैं? वजन कम करने के लिए डाइट चार्ट कैसे बनाएँ?  वजन कम ना होने के कारण:  कोई ऐसी बीमारी होना जो वजन बढ़ने का कारण बनती हैं जैसे हाइपोथायरॉइडिस्म, और हमें पता ही नहीं होता कि हम इस बीमारी से गुजर रहे हैं और मेहनत करते रहते हैं पर परिणाम नहीं आता।  ग़लत तरीक़े से डायटिंग करना:   लोग डायटिंग का मतलब समझ लेते हैं खाना छोड़ देना! इससे उस समय तो वजन कम हो जाता है पर जैसे ही आप सामान्य भोजन लेना शुरु करते हैं आपका वजन फिर बढ़ जाता है।  इच्छा शक्ति की कमी: इस स्थ

सरकार क्यों चाहती है कि आप वॉल्व वाला N95 मास्क ना पहनें? WHO ने N95 मास्क को लेकर क्या चेतावनी जारी की है?

Image
सरकार ने अभी हाल में एक चेतावनी जारी की है जिसमें कहा गया है कि N95 मास्क जिनमें वॉल्व होता है वो कोरोनावायरस के समय ख़तरनाक साबित हो सकता है।आइए जानते हैं कि   वॉल्व वाला N95 मास्क क्यों ख़तरनाक है N95 मास्क क्या होता है? N95 मास्क ऐसा मास्क होता है जो कम से कम 95% वायु जनित कणों को छान देता है। अर्थात् कि यदि १०० कण हैं वायु में तो  95 कणों को छान देगा।  N95 मास्क को सिंथेटिक पॉलीमर फ़ाइबर के एक महीन जाल की आवश्यकता होती है, विशेष रूप से एक गैर बुना हुआ पॉलीप्रोपाइलीन कपड़ा, जो खतरनाक कणों को छानता है। N95 मास्क के प्रकार:  ये मुख्यतः दो प्रकार का होता है बिना वॉल्व वाला वॉल्व वाला N95 मास्क के इस्तेमाल कैमिकल इंडस्ट्री में काम करने कर्मचारी कोरोना वॉर्ड में काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारी प्रदूषण से बचाव के लिए  कोरोना काल में वॉल्व वाले मास्क क्यों नहीं पहनने चाहिए?  वॉल्व वाले मास्क क्यों नहीं पहनने चाहिए ये समझने के लिए हमें वॉल्व के कार्य करने की प्रक्रिया समझना ज़रूरी है।  वॉल्व के कार्य करने की प्रक्रिया:  वॉल्व वाले मास्क में जो साँस अंदर लेते हैं, तो अंदर आने वाली हवा छन क

मोटापा: मोटापा क्या होता है? बॉडी मास इंडेक्स क्या होता है? मोटापे के क्या दुष्प्रभाव होते हैं?

Image
मोटापा क्या होता है?  वजन बढ़ना आज के समाज की सबसे बड़ी समस्या है। वर्तमान में देश की क़रीब एक तिहाई जनसंख्या मोटापे से पीड़ित है। आइए जानते हैं कि मोटापा क्या होता है? बॉडी मास इंडेक्स क्या होता है? मोटापे के क्या दुष्प्रभाव होते हैं? मोटापा क्या होता है?  जब आपके शरीर में वसा की मात्रा आवश्यकता से अधिक होती है तो शरीर उसको संग्रहीत कर लेता है और विभिन्न ऊतकों में जमा करता है, जब वसा की मात्रा बहुत अधिक हो जाती है तो इन ऊतकों का आकार बढ़ने लगता है और शरीर बेडौल हो जाता है। शरीर के अंगों का वसा की अधिकता के कारण आवश्यकता से अधिक बढ़ जाना ही मोटापा कहलाता है।  मोटापा किसी भी व्यक्ति को, किसी भी उम्र में हो सकता है।  मोटापे के प्रकार:  मोटापा दो प्रकार का होता है पुरुष वर्ग का मोटापा जिसमें मुख्यतः पेट पर वसा एकत्र होता है महिला वर्ग का मोटापा जिसमें शरीर के सभी अंगों में समान रूप से वसा एकत्र होता है।  पुरुष वर्ग का मोटापा ज़्यादा ख़तरनाक होता है, इसकी वजह से स्वास्थ्य समस्याएँ भी ज़्यादा होती हैं।  पुरुष वर्ग का मोटापा कम करना भी मुश्किल होता है महिला वर्ग की अपेक्षा।  यहाँ ध्यान देने

इंसुलिन क्या होता है? इंसुलिन का प्रयोग कैसे करें? इंसुलिन और डायबिटीज़ में क्या संबंध है?

Image
इंसुलिन क्या होता है? हमारे शरीर में बहुत सारे रसायन बनते हैं जिनमें से एक रसायन इंसुलिन होता है। आइए जानते हैं कि इंसुलिन क्या है, इंसुलिन को कैसे इस्तेमाल करते हैं, इंसुलिन और डायबिटीज़ का क्या संबंध है। इंसुलिन एक हार्मोन है जो अग्न्याशय द्वारा बनाया जाता है जो शरीर को भोजन में कार्बोहाइड्रेट से मिली चीनी (ग्लूकोज) का उपयोग करने में मदद करता है, जिसे व्यक्ति  ऊर्जा के लिए खाता है या भविष्य में उपयोग के लिए ग्लूकोज को संग्रहीत करता है। शरीर में यदि इंसुलिन कम हो जाता है तो व्यक्ति को डायबिटीज़ हो जाती है।  इंसुलिन के प्रकार:   मधुमेह के इलाज के लिए विभिन्न प्रकार के इंसुलिन का उपयोग किया जाता है जो कि निम्नवत हैं: तीव्रता से काम करने वाला(RAPID ACTING) इंसुलिन:  यह इंजेक्शन लगाने के लगभग 15 मिनट बाद काम करना शुरु कर देता है और लगभग 1 घंटे तक काम करता है, लेकिन दो से चार घंटे तक थोड़ा थोड़ा काम करता रहता है।इसको भोजन से पहले और लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन के साथ लिया जाना चाहिए । लघु अंतराल(SHORT ACTING)  इंसुलिन:  यह इंजेक्शन के लगभग 30 मिनट बाद काम करना शुरू कर देता है और लगभग

उच्च रक्तचाप की रोकथाम कैसे करें: 10 बातें जो आपको जाननी चाहिए

रक्तचाप की रोकथाम के लिए ज़रूरी 10 बातें जो आपको जाननी चाहिए  रक्तचाप को क़ाबू करना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक है। ये तब और ज़्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है जब आप उच्च रक्तचाप के मरीज़ हैं। रक्तचाप को संतुलित रखने के दो तरीक़े होते हैं  बिना दवाओं के जीवन शैली में परिवर्तन करके  दवाओं द्वारा जीवनशैली आपके उच्च रक्तचाप के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यदि आप एक स्वस्थ जीवन शैली के साथ अपने रक्तचाप को सफलतापूर्वक नियंत्रित करते हैं, तो आप दवा की आवश्यकता से बच सकते हैं, देरी कर सकते हैं या कम कर सकते हैं। इस लेख में हम जीवनशैली में १० ऐसे बदलावों के विषय में जानेंगे जिनकी सहायता से आप अपना रक्तचाप कम कर सकते हैं और इसे नियंत्रित रख सकते हैं। वजन कम करें: वजन बढ़ने पर ब्लड प्रेशर अक्सर बढ़ जाता है। अधिक वजन होने के कारण भी आप सोते समय (स्लीप एपनिया) बाधित सांस ले सकते हैं, जो आपके रक्तचाप को बढ़ाता है। रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए वजन घटाना सबसे प्रभावी जीवन शैली में से एक है। यदि आप अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं तो वजन कम करने में भी आपके रक्तचाप को कम करने में मदद मिल सक

क्या भारत ने कोरोना की वैक्सीन बना ली है? Covaxin क्या है, बाज़ार में कब तक आ जाएगी?

Image
कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को तबाही के दरवाज़े पर लाकर खड़ा कर दिया है। मानव ने इतनी तरक़्क़ी कर ली इतनी दवाइयाँ बना लीं पर विडम्बना देखिए कि इनमें से एक भी दवा ऐसी नहीं है जो इस बीमारी पर पूरी तरह से कारगर हो। जब हर तरफ़ चिंता ही चिंता है ऐसे में भारत बायोटेक नाम कीं कम्पनी ने उम्मीद की एक किरण जगाई है। अगर ये परीक्षण सफल रहा तो भारत दवाओं की दुनिया का एक बड़ा खिलाड़ी बन सकता है। आइए जानते हैं कि क्या है COVAXIN?  हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सीन COVAXIN को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से मानव नैदानिक ​​परीक्षणों के साथ शुरू करने की मंजूरी मिल गई है। कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि वह WISCONSIN, ICMR और थॉमस जेफरसन विश्वविद्यालय के साथ मिलकर अपने 3 COVID-19 टीकों की घोषणा करके प्रसन्न है। कोरोनावायरस क्या है?  कोरोनावायरस के विषय में जानने के लिए आप ये वीडियो देखिए: COVAXIN क्या है? कोरोनावायरस वैक्सीन COVAXIN अत्यधिक संक्रामक और जानलेवा बीमारी COVID-19 के लिए भारत का पहला स्वदेशी विकसित अंडर-ट्रायल वैक्सीन है, जिसने हर देश के विकास पर असर डाला है क्योंकि बी